Computer Kya Hai

कंप्यूटर क्या है? | A to Z जानकरी – What is Computer in Hindi

Computer Kya Hai in Hindi हेलो दोस्तों आज हमने कंप्यूटर क्या है पर लेख लिखा है. कंप्यूटर एक ऐसी machine या इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है जो मनुष्य द्वारा बनाये गए नियमो पर चलतहै| Computer एक अंग्रेजी भाषा का शब्द है इसका स्तोत्र एक लैटिन शब्द “Compute” से हुआ था जिसका अर्थ होता है “गणना करना”| गणना करने का अर्थ होता है calculation या estimation करना|

कंप्यूटर एक ऐसा यंत्र है जो user के data को लेता है जिसे कंप्यूटर की भाषा में input कहा जाता है. और उसके बाद कुछ गतिविधियों और प्रक्रियाओं से उस डाटा को प्रोसेस करता है और अंतिम परिणाम जिसे output कहा जाता है उसे user के सामने प्रस्तुत करता है| यदि आप कंप्यूटर से जुडी जानकारी के बारे में और गहराई में जानने की रूचि रखते हैं तो हमारा यह पोस्ट अंत तक पढ़े, इस आर्टिकल में हमने computer के बारे में detail में बताया है|

हर इंसान के लिए कंप्यूटर का मतलब अलग अलग होता है, चलिए इसको उद्धरण की मदद से समझते हैं- यदि आप एक छोटे बच्चे से पूछेंगे what is computer तो वह बोलेगा कि यह गेम खेलने की मशीन है अगर यही सवाल आप किसी बड़े आदमी से पूछेंगे तो वह कहेगा कंप्यूटर आधुनिक दुनिया का हिस्सा है जो लाखो मनुष्य को रोज़ी रोटी कमाने में मदद करता है| कंप्यूटर को मनुष्यो की मदद करने हेतु उनका काम आसान करने के विचार से डिज़ाइन किया गया है, जिससे उन्हें आधुनिक दुनिया के अपने दैनिक जीवन में काम करने में एक तेज़ गति मिल सके|

कंप्यूटर का Full Form 

कंप्यूटर का मनुष्यो द्वारा बना क्या एक काल्पनिक फुल फॉर्म जो आम तौर पर सुना जाता है वो है:

C – Commonly
O – Operated
M – Machine
P – Particularly
U – Used for
T – Technical and
E – Educational
R – Research

हिंदी अर्थ: आम परिचालन यंत्र जो ख़ास तौर पर शिक्षा, और तकनिकी चीज़ो के लिए इस्तेमाल किया जाता है|

Computer का इतिहास 

History of Computer in Hindi दोस्तों हम आपको एक बात, बता दें आधुनिक कंप्यूटर की खोज के पीछे एक बहुत गहरा इतिहास छिपा है| इसकी स्थापना के पीछे कई सारे महान व्यक्तियों की वर्षो की मेहनत छिपी हुई है| Computer उनके कठोर परिश्रम, और दृढ़ निष्ठां का एक बहुमूल्य परिणाम है| जैसा की हमने बताया कंप्यूटर के अविष्कार में कई सारे लोगो का योगदान रहा परन्तु सबसे अहम योगदान Charles Babage का है क्योकि इन्होने वर्ष 1837 सबसे प्रथम Analytical Engine की स्थापना की थी| इसलिए आज जब भी किसी से यह प्रश्न पूछा जाता है – “कंप्यूटर का अविष्कार किसने किया?” तो Charles Babage का नाम लिया जाता है|

क्या दोस्तों आपको मालूम है केलकुलेटर का आविष्कार भी इसी समय हुआ था| जब चार्ल्स कंप्यूटर की स्थापना की कर रहे थे उसी समय कैलकुलेटर का आविष्कार हुआ था इसका इस्तेमाल जोड़ने, घटाने, भाग, गुणा करने के लिए किया गया था| धीरे-धीरे देखते देखते कंप्यूटर की स्थापना भी हो गई परन्तु कंप्यूटर का इतिहास इतना ही नहीं था| इसके बाद तो कंप्यूटर की असल कहने की शुरुवात हुई थी|

यदि आप computer kya hai और इसके इतिहास के बारे में और डिटेल में जानना चाहते हैं तो आप हमारे साथ इस आर्टिकल में अंत तक बने रहे, मुझे इसके बारे में आपको और गहराई से बताने में बेहद आनंद आएगा| कंप्यूटर की 5 पीढियां थी, हम इन सभी पीढ़ियों के बारे में एक एक कर विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे|

कंप्यूटर की पहली पीढ़ी (1940-1956)

कंप्यूटर की first generation में “Vaccum Tubes” का इस्तेमाल किया गया था| जिसकी वजह से इसका size बहुत विशाल था और इसके कारण कई बार कंप्यूटर के अंदर Heating Problem या malfunction (वायरस) जैसी परेशानियों का सामना भी करना पड़ा| और यह बिजली भी बहुत खाते थे|

पहली पीढ़ी के कम्प्यूटर्स के उद्धरण – UNIVAC , ENIAC computers

कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी (1956-1963)

कंप्यूटर की second generation में वैक्यूम तुबेस की जगह “Transistors” ने लेली थी| ट्रांसिस्टर्स के इस्तेमाल करने से हीटिंग इशू, बिजली की ज्यादा खपत जैसी अन्य कई सारी परेशानियाँ का हल निकल गया था| और इस पीढ़ी के कम्प्यूटर्स के काम करने की क्षमता बहुत fast थी|

दूसरी पीढ़ी के कम्प्यूटर्स के उद्धरण – COBOL, FORTRAN 

कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी (1964-1971)

तो चलिए दोस्तों अब कंप्यूटर की third generation पर चर्चा करते हैं इस पीढ़ी में “Integrated Circuits” का इस्तेमाल किया गया था| इसमें transistors को छोटे छोटे silicon chip के अंदर डालकर कम्यूटर के अंदर फिट किया जाता था| इसके इस्तेमाल से कंप्यूटर की processing power यानी काम करने की क्षमता काफी हद तक बढ़ गई थी जिसे कंप्यूटर बहुत user friendly यंत्र बन गया था| और इससे उसका performance भी सुधर गया था| कंप्यूटर को और यूजर फ्रेंडली बनाने के लिए पहली बार इतिहास में monitor, keyboard और operating system का इस्तेमाल किया गया और इन्हे मार्केट में launch किया गया|

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी (1971-1985)

तो चलिए दोस्तों अब कंप्यूटर की fourth generation के बारे में चर्चा करते हैं, इस दौरान कंप्यूटर के में क्या क्या बदलाव आए थे तो उसमें क्या हुआ था, इस पीढ़ी में कंप्यूटर के अंदर “Microprocessors” का इस्तेमाल किया गया था| जिसकी मदद से intergrated circuits को एक सिलिकॉन चिप के अंदर डालकर कंप्यूटर में insert किया गया था| जिसकी वजह से उसकी इस आधुनिक यंत्र की काम करने की क्षमता बहुत ज्यादा बढ़ गयी थी जिसकी वजह से वह बहुत सारे काम एक ही समय पर कर पा रहा था और इससे हिटिंग प्रॉब्लम भी बहुत हद तक काबू में आ गए थे और यह वो समय था जब कम्प्यूटर्स का साइज भी काम होने लग गया था|

कंप्यूटर की पांचवी पीढ़ी (1995)

तो guy’s finally दोस्तों अब समय आ गया है जब हम कंप्यूटर की fifth generation पर चर्चा करने वाले हैं जो हमारी पीढ़ी की है. इस पीढ़ी में Artificial Intelligence” का उपयोग किया जा रहा है| समय के साथ जैसे जैसे नई टेक्नोलॉजी इस आधुनिक दुनिया में आ रही है, जिससे कंप्यूटर को इतनी क्षमता मिल गई है कि वह अब decision making यानी फैसला लेने की भी क्षमता रखता है| और ऐसा माना जा रहा है की धीरे धीरे आर्टिफीसियल इंटेलिजेंस की मदद से भविष्य में आने वाले computers fully automated हो जायेंगे|

कंप्यूटर की परिभाषा – Definition of Computer

कंप्यूटर की आधुनिक मशीन है जो user के raw data को लेकर उससे एक मनुष्यो द्वारा डिज़ाइन करि गतिविधियों से process करके अंतिम परिणाम यानि output user को प्रधान करता है|

इस इलेक्ट्रॉनिक मशीन के तीन अहम काम होते हैं:

1. Input – Raw Data को लेना
2. Processing – उसको गतिविधयों से निकलना
3. Output – अंतिम परिणाम दिखाना

कंप्यूटर कैसे काम या कार्य करता है? How Computer Works in Hindi

हमने कंप्यूटर के बारे में बहुत कुछ जान लिया है अब सवा आता है यह कंप्यूटर किस प्रकार काम करता है? जैसा की हमने आपको ऊपर बताया इसके तीन अहम काम होते हैं अब हम यह जानेगे की की कंप्यूटर यह काम करता कैसे है?

1. Input : जब भी हमे कुछ कैलकुलेशन करनी होती है या कुछ डाटा से सम्भंदित काम होता है, तब हम कंप्यूटर में raw data डालते हैं, जिससे कंप्यूटर उस डाटा को प्रोसेस करके हमे जरुरी परिणाम दे| इस डाटा को रॉ डाटा इसलिए कहा जाता है क्योकि इसकी कुछ वैल्यू होती है परन्तु इस फॉर्म में उस डाटा का इतना ख़ास महत्व नहीं होता है|

2. Processing : हमने अब रॉ डाटा तो कंप्यूटर को दे दिया, चलिए अब जानते हैं अब क्या होगा? Raw data insert करने के बाद कंप्यूटर मनुष्य द्वारा डिजाइन किये गए नियमो और गतिविधियों पर काम करना शुरू करता है और दिए गए डाटा को एक ख़ास प्रोसेस में ले जाता है|

3. Output : अब हमने डाटा भी डाला दिया, कंप्यूटर ने उसको प्रोसेस भी कर दिया| चलिए अब जानते हैं अब आगे क्या होगा| इसके बाद कंप्यूटर user को उसके रॉ डाटा का पर्याप्त प्रोसेसिंग के बाद अंतिम परिणाम प्रस्तुत करता है| जिस डाटा का कुछ मोल होता है जिसका कुछ महत्व होता है, जिसे हम किसी कार्य के करने में इस्तेमाल कर सकते हैं

इसके अलावा कंप्यूटर अन्य कई चीजों में मदद करता है जैसे इसमें कई प्रोग्राम होते हैं, कई सारी गतिविधियां होती है जिसे यदि हम अच्छे से समझ ले तो जीवन में बहुत अच्छा करियर बना सकते हैं|

Hardware क्या होता है?

What is Hardware in Hindi हार्डवेयर वो Physical Devices होते हैं जिसे हम कंप्यूटर से connect करते हैं, ताकि हम कंप्यूटर का अच्छे से इस्तेमाल कर सकें। Hardware कंप्यूटर को user friendly बनाता है और इन्हे अपने कंप्यूटर में install करने से हमें कंप्यूटर को इस्तेमाल करने में बहुत आसानी रहती है| हार्डवेयर के कुछ उद्धरण है – monitor, keyborad, mouse आदि

Software क्या होता है?

What is Software in Hindi जैसा कि हमने आपको बताया हार्डवेयर कुछ physical यंत्र होते हैं जो हमें कंप्यूटर चलाने में आसानी प्रदान करते हैं. अब हम आपको सॉफ्टवेयर क्या होता है बताते हैं. सॉफ्टवेयर एक codes का गुलदस्ता होता है यानी collection of codes. इन्हे हम hardware की मदद से इस्तेमाल करते हैं जैसे – internet या search engine. यह सभी चीज़े कोड्स के माध्यम पे चलती है| इन्ही सब चीज़ो को सॉफ्टवेयर कहा जाता है|

Computer के प्रकार – Types of Computer

कंप्यूटर के निम्न विभिन्न प्रकार होते हैं:

1. Destop Computer : यह सबसे आम तौर पर इस्तेमाल किये जाने वाला कंप्यूटर का प्रकार है, जिससे आप अच्छे से रूबरू होंगे, यह प्रकार monitor, mouse, keyboard आदि चीज़ो का मिश्रण होता है|

2. Laptop : लैपटॉप एक आधुनिक यंत्र है, इसका आविष्कार इसलिए किया गया था ताकि मनुष्य अपने साथ कंप्यूटर को कही भी ले जा के काम कर सके| यह एक आधुनिक कम्प्यूटर है|

3. Tablet Computers : यह प्रकार तो छोटे बच्चो में बड़ा चर्चित है, यह एक handable कंप्यूटर है, इसे हम कही भी अपने साथ ले जा सकते हैं और उससे अपनी सुविधा के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं, इसे हम एक mini computer भी कह सकते हैं|

4. Servers : सर्वर भी एक प्रकार का कंप्यूटर हैं जिसे जानकारी के लेन देन में इस्तेमाल किया जाता है|

5. Smart Phone : इस आधुनिक युग में बढ़ती टेक्नोलॉजी के साथ स्मार्टफोन भी एक मिनी कंप्यूटर की तरह है, जिसमे हम interet आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं|

तो दोस्तों यह थे कंप्यूटर के कुछ अहम प्रकार, इसके अलावा कंप्यूटर के और भी अन्य कई प्रकार होते हैं जैसे – टीवी, गेमिंग कंसोल आदि

कंप्यूटर की विशेषताएँ – Benefits of Computer in Hindi

Computer ke fayede यदि आप हमारा आर्टिकल यहां तक पढ़ चुके हैं तो सीधी सी बात है आप कंप्यूटर के बारे में सारी जानकारी जान चुके होंगे तो अब यह जानना आपके लिए अत्यंत आवश्यक है कि कंप्यूटर के क्या लाभ होते हैं, कंप्यूटर की क्या विशेषता होती और कंप्यूटर के क्या फायदे होते हैं?

यदि आपको कंप्यूटर का सही तरीके से इस्तेमाल करना आता है, तो आपके लिए इसके अनगिनत फायदे हैं इनमें से कुछ महत्वपूर्ण लाभ हम नीचे बताएं हैं:

1. Data Security (डाटा सुरक्षा): यदि आपके पास कुछ महत्वूर्ण डाटा है जो आपको औरो से छिपा के रखना है तो उसके लिए कंप्यूटर का प्रयोग करना सबसे सर्वश्रेष्ठ तरीका है, यह आपका डाटा औरो से छिपा कर मेहफूस अपने system में safely store रखता है|

2. Multitasking (बहु कार्यण) : आधुनिक कंप्यूटर को इस प्रकार डिज़ाइन किया गया है की यह एक ही समय पर वभिन्न काम कर सकता है, जिससे हमे अपने जीवन में जल्दी जल्दी काम करने की एक गति प्रधान होती है|

3. Accuracy (शुद्धता) : कंप्यूटर एक ऐसा यंत्र है जिससे कभी गलती नहीं हो सकती है, आप कितनी भी बड़ी calculation करें, यह हमेशा आपको सही उत्तर ही देगा|

4. Automation (स्वचालन) : कंप्यूटर को इस प्रकार डिज़ाइन किया गया है की, यदि आपको इसमें अपना कोई कार्य schedule करदे तो यह अपने आप वह कार्य automatically कर देगा|

कंप्यूटर के अन्य कई और भी फायदे होते हैं जैसे reliability (विश्वसनीयता), speed (तेज़ी) आदि

कंप्यूटर के नुक्सान – Side-Effects of Computer in Hindi

जिस प्रकार हर सिक्के के 2 पहलू होते हैं उसी प्रकार कंप्यूटर के अगर भारी मात्रा में सारे फायदे हैं तो इसके कुछ हानिया भी है| हमने इस आर्टिकल में कुछ हानियों का जिक्र किया है जो दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही|

1. Cyber Crime (साइबर अपराध) : जो क्राइम कंप्यूटर की सहायता से इंटरनेट पर किया जाता हैं उसे साइबर क्राइम कहता हैं| इसके कुछ उदाहरण है जैसे blackmailing, bullying, आदि यह करना एक गैरकानूनी अपराध होता है और यदि आपके साथ कभी इंटरनेट पर कुछ गलत किया जाए या आपको किसी और के साथ साइबर अपराध होता हुआ दिखे तो मेरी आपके विनती है आप तुरंत पुलिस से संपर्क कर इसकी रिपोर्ट करे|

2. Hacking (हैकिंग) : हैकिंग एक ऐसा जरिया है जिससे एक व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति के कंप्यूटर में घुस जाए और उनक बहुमूल्य जानकारी या डाटा छोटी कर ले, यह अपराध भी कंप्यूटर की सहायता से किया जाता है|

भविष्य में कंप्यूटर के फायदे – Future of Computer

आने वाले कल में दुनिया भर के सारे काम खाने से लेके पहनने तक सारे काम कंप्यूटर की सहायता से इंटरनेट पर किये जायेंगे, यदि आपको computer की field में career बनाना है तो में आपको सलाह दूंगा आप अभी से काम पर लग जाये, क्योकि coronavirus की वजह से इंटरनेट का उपयोग और digital marketing का स्कोप बहुत ज्यादा बढ़ गया है आने वाले समय में इसमें बहुत सी employmet opportnities उत्पन होने वाली है|

यह भी पढ़े : 

हमे उम्मीद है दोस्तों आपके लिए हमारा कंप्यूटर क्या है? – What is Computer in Hindi पर ब्लॉग आपके लिए मददगार रहा होगा| इसे अपने दोस्तों और घर परिवार वालो के साथ शेयर करना ना भूलें| और इस आर्टिकल से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो चाहो तो कमेंट करके बता सकते हैं|

Hindipool

Rahul हिंदी ब्लॉग इंडस्ट्री के प्रमुख लेखकों में से एक हैं, इनकी पढ़ाई-लिखाई, टेक्नोलॉजी, आदि विषय में असीम रूचि होने के कारण, इन्होने ब्लोग्स के जरिये लोगो की मदद करके अपना करियर बनाने का एक अनोखा एवं बेहतरीन फैसला लिया है|

View all posts by Hindipool →

Leave a Reply

Your email address will not be published.