Sandhi Kise Kahate Hain

संधि किसे कहते हैं, भेद, एवं उदहारण – Sandhi Kise Kahate Hain

Sandhi Kise Kahate Hain – हेलो! बच्चो आपका Hindipool पर स्वागत है| यह लेख खास विद्यालय में पढ़ते विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है| विद्यालय में Hindi Grammar यानी व्याकरण में कई सारे विषयो के बारे में बच्चो को ज्ञान दिया जाता है, जैसे Varn Kise Kahate Hain, Swar Kise Kahate Hain, Vakya Kise Kahate Hain आदि| यह लेख “संधि” पर आधारित है|

स्कूल में सभी बच्चो को कक्षा में संधि किसे कहते हैं विस्तार से पढ़ाया जाता है, परन्तु बच्चे फिर भी परीक्षाओ में इससे जुड़े उत्तर देने में सक्षम नहीं हो पाते हैं| इसलिए आज हमने इस लेख में सभी विद्यार्थियों के लिए बहुत ही सरल भाषा में संधि किसे कहा जाता है, परिभाषा, भेद, एवं उदहारण बताया है|

Sandhi Kise Kahate Hain in Hindi

संधि किसे कहते हैं?

परिभाषा – संधि का अर्थ होता है मिलना| दो शब्दों के मिलन से जो ध्वनि में परिवर्तन आता है, उसे संधि कहा जाता है|

जैसे –

  • ने + अन = नयन
  • हिम + आलय = हिमालय

संधि विच्छेद किसे कहते हैं?

जब संधि किये हुए शब्दों को अलग अलग प्रदर्शित किया जाता है. उसे संधि विच्छेद कहा जाता है|

जैसे –

  • नयन = ने + अन
  • हिमालय = हिम + आलय

यह भी जरूर पढ़े: Maharshi Ka Sandhi Viched 

संधि के भेद एवं प्रकार

संधि के निम्न प्रकार होते हैं:

  1. स्वर संधि
  2. व्यंजन संधि
  3. वसर्ग संधि

1. स्वर संधि

जब 2 स्वरों के जुड़ने से या मिलन से जो परिवर्तन आता है, उसे स्वर संधि कहा जाता है|

जैसे –

  • विद्या + अर्थी = विद्यार्थी
  • महा + ईश = महेश

स्वर संधि के 5 भेद होते हैं:

  1. दीर्घ संधि
  2. गुण संधि
  3. वृद्धि संधि
  4. यण संधि
  5. अयादि संधि
दीर्घ संधि

जब संधि के समय “अ, आ” के साथ “अ, आ” आ जाए तो “आ” हो जाता है, इसी प्रकार “ई, इ” के साथ “ई, इ” आ जाए तो “ई” हो जाता है, इस ही परिवर्तन को दीर्घ संधि कहा है|

गुण संधि

संधि करते वक़्त जब (अ, आ) के साथ (इ, ई) जुड़ जाए तो “ए” बन जाता है और जब (अ, आ) के साथ (उ, ऊ) जुड़ जाए तो “ओ” बन जाता है, इस परिवर्तन को ही गुण संधि कहते हैं|

जैसे- महाऋषि = महा + ऋषि

वृद्धि संधि

संधि करते समय जब “अ, आ” के साथ “ए, ऐ” हो तो वह “ऐ” में परिवर्तित हो जाता है, इस परिवर्तन को ही वृद्धि संधि कहते हैं|

यण संधि

संधि करते वक़्त जब “इ, ई” के साथ अन्य स्वर हो तो वह “य” में परिवर्तित हो जाता है, “उ, ऊ” के साथ अन्य स्वर हो तो वह “व्” में परिवर्तित हो जाता है, इस परिवर्तन को ही यण संधि कहते हैं|

अयादि संधि

संधि करते वक़्त ए, ऐ आदि के साथ कोई स्वर लग जाए तो ए का अय, ऐ का आय आदि हो जाता है, इस परिवर्तन को अयादि संधि कहते हैं|

2. व्यंजन संधि

जब 2 व्यंजनों के जुड़ने से या मिलन से या व्यंजन के साथ स्वर के मिलने से जो परिवर्तन आता है, उसे व्यंजन संधि कहा जाता है|

जैसे –

  • अभी + सेक = अभिषेक
  • दिक् + गज = दिग्गज

3. वसर्ग संधि

संधि करते समय विसर्ग के बाद कोई स्वर या व्यंजन के आने से जो परिवर्तन आता है, उसे विसर्ग संधि कहा जाता है|

जैसे –

  • प्रातः + काल = प्रतःकाल
  • अंत + गत = अंतगर्त

यह भी जरूर पढ़े: Vachan Kise Kahate Hain

हम आशा करते हैं हमारे द्वारा लिखा गया Sandhi Kise Kahate Hain पर आर्टिकल आपके लिए मददगार रहा होगा| इस लेख को शेयर करना ना भूले और साथ ही आपका कोई सुझाव हो तो उसे कमेंट में जरूर बताये| धन्यवाद

Hindipool

Rahul हिंदी ब्लॉग इंडस्ट्री के प्रमुख लेखकों में से एक हैं, इनकी पढ़ाई-लिखाई, टेक्नोलॉजी, आदि विषय में असीम रूचि होने के कारण, इन्होने ब्लोग्स के जरिये लोगो की मदद करके अपना करियर बनाने का एक अनोखा एवं बेहतरीन फैसला लिया है|

View all posts by Hindipool →

Leave a Reply

Your email address will not be published.